Diwali 2019: 25 oct-29 oct. -एक क्लिक में जानें धनतेरस, यम दीप, दिवाली, गोवर्द्धन पूजा और भैयादूज का शुभ मुहूर्त

पांच दिनों तक चलने वाले दिवाली उत्सव की शुरुआत धनतेरस के साथ होती है। जिसके बाद नरक चतुदर्शी, यम दीप,  दिवाली, गोवर्द्धन पूजा और भैयादूज के साथ समाप्त हो जाता है।

अक्टूबर माह के आखिरी सप्ताह में दिवाली उत्सव शुरू हो जाएगा। हिंदू धर्म में दीपावली के त्योहार का बहुत अधिक महत्व है। पांच दिनों तक चलने वाले इस उत्सव की शुरुआत धनतेरस के साथ होती है। जिसके बाद नरक चतुदर्शी, यम दीप,  दिवाली, गोवर्द्धन पूजा और भैयादूज के साथ समाप्त हो जाता है। 

दिवाली का त्योहार 27 अक्टूबर को मनाया जाएगा। शास्त्रों के अनुसार दीवाली कार्तिक मास की अमावस्या तिथि महानिशीथ काल में मनाया जाता है। जानें इन सभी त्योहारों के शुभ मुहूर्त। जिससे आप आसानी से कर सके पूजन संबंधी हर काम समय से। 

धनतेरस के दिन पूजा करने का शुभ मुहूर्त

धनतेरस तिथि- शुक्रवार, 25 अक्टूबर 2019

धनतेरस पूजन मुर्हुत – शाम 07:08 बजे से रात 08:14 बजे तक
प्रदोष काल – शाम 05:38 से रात 08:13 बजे तक
वृषभ काल – शाम 06:50 से रात 08:45 बजे तक
त्रयोदशी तिथि प्रारंभ – सुबह 07:08 बजे (25 अक्टूबर 2019) से
त्रयोदशी तिथि समाप्त – 26 अक्टूबर को दोपहर 03:57 बजे तक

खरीददारी करने का शुभ मुहूर्त
दोपहर 12:05 से दोपहर 02:53 मिनट तक
शाम 04:17 मिनट से शाम 05:42 मिनट तक
रात 9 बजे से रात 10:30 तक धनतेरस की खरीददारी करें 7 चीजें, मा

सुबह 10:40 से दोपहर 12:05 मिनट तक राहुकाल में ना करें खदीददारी

यम दीप तिथि और शुभ मुहूर्त

यम दीप की तिथि: 26 अक्‍टूबर 
यम दीप का समय-  5 बजकर 37 मिनट से 6 जबकर 55 मिनट कर
अवधि- 1 घंटा 17 मिनट

प्रदोष काल: शाम 05 बजकर 38 से शाम 08 बजकर 13 मिनट से
वृषभ काल: शाम 06 बजकर 50 मिनट से रात 08 बजकर 45 मिनट तक

दीपावली की तिथि, शुभ मुहूर्त

दीवाली और लक्ष्‍मी पूजन की तिथि: 27 अक्‍टूबर 
अमावस्‍या तिथि प्रारंभ: 27 अक्‍टूबर को दोपहर 12 बजकर 24 मिनट से 
अमावस्‍या तिथि समाप्‍त: 28 अक्‍टूबर को सुबह 09 बजकर 09 मिनट तक 
लक्ष्‍मी पूजा मुहुर्त: 27 अक्‍टूबर रात 12 बजकर 23 मिनट तक 
कुल अवधि: 01 घंटे 30 मिनट 
प्रदोष काल- शाम 5:50 मिनट से 8:14 तक 
महानिशीथ काल: रात 11:39 से 12:30 तक होगा

चौघड़िया मुहूर्त

शुभ की चौघड़िया: सुबह 5:40 से 7:16 तक होगी
अमृत की चौघड़िया – शाम 7:16 से रात 8:52 तक 
तीसरी चर की चौघड़िया- रात 8:52 से 10:28 तक प्राप्त हो रही है जबकि रात 1:41 से 3:17 तक 
लाभ की चौघड़िया- रात 1:41 से 3:17 तक 
अत: इस बार प्रदोष काल में लक्ष्मी की पूजा सर्वथा श्रेष्कर है।

गोवर्द्धन पूजा तिथि, शुभ मुहूर्त

गोवर्द्धन पूजा/ अन्‍नकूट: 28 अक्‍टूबर 2019 
प्रतिपदा तिथि प्रारंभ: सुबह 09 बजकर 08 मिनट से (28 अक्टूबर)
प्रतिपदा तिथि समाप्‍त: सुबह 9 बजकर 13 मिनट तक (29 अक्टूबर) 

गोवर्द्धन पूजा मुहूर्त: दोपहर 03 बजकर 23 मिनट से शाम 05 बजकर 36 मिनट तक 

भैयादूज तिथि और शुभ मुहूर्त

भैयादूज- 29 अक्‍टूबर 2019 
द्वितीया तिथि प्रारंभ: सुबह 06 बजकर 13 मिनट से (29 अक्‍टूबर)
द्व‍ितीया तिथि समाप्‍त: सुबह 03 बजकर 48 मिनट तक (30 अक्‍टूबर)
भाई दूज अपराह्न समय: दोपहर 01 बजकर 11 मिनट से दोपहर 03 बजकर 26 मिनट तक 
कुल अवधि: 02 घंटे 14 मिनट

Leave a Reply

Your email address will not be published.